नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , गंगा माता ने रविदास की भक्ति की शक्ति के मान को चारों दिशाओं में प्रकाशित किया। यज्ञोपवीत सभी सभी धारण कर सकते हैं इसका भी अपनी छाती को फाडकर यज्ञोपवीत निकाल कर दिया। – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

गंगा माता ने रविदास की भक्ति की शक्ति के मान को चारों दिशाओं में प्रकाशित किया। यज्ञोपवीत सभी सभी धारण कर सकते हैं इसका भी अपनी छाती को फाडकर यज्ञोपवीत निकाल कर दिया।

Featured Video Play Icon
😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

  श्रिरोमणि संत श्री गुरु रविदास जी के 574 प्रकट महोत्सव पर श्री रविदास मन्दिर दियाल में सत्संग का आयोजन

जिला व्यूरो चीफ़ विजय समयाल

गुरु रबिदास महाराज के 647 जन्म दिवस के अवसर पर गुरु रबिदास प्रबंधक कमेटी दियाल के सौजन्य से सन्त समेलन का आयोजन किया गया जिसमें संन्त श्री108 बक्शीश दास जी डेरा श्री 108 वाल दास दियाल वाले बाबा श्री 108 सरुप दास जी गुरदासपुर वाले सन्त श्री केबल केबल कृष्ण कमाही देवी वाले श्री दिलीप सिह पाठी मैहकड वाले श्री सरुप दास पाठी कुठेड वाले सन्त श्री जीबन दास वदुही वाले सन्तो ने अपने मुखारविन्द शब्दों से पडाल मे पहुची सगत को निहाल किया तदुपरान्त अटूट लंगर वरताया गया

सत्संग में प्रबचनो की अमृतबर्षा करते हुए संतों  फरमाया कि इस संसार में सभी जन्म एक सामान होता है व  मृत्यु भी एक सामान होती है। जातपात के आधार पर नहीं संतों की एक जात होती है सभी का भला करना और संसार के सभी प्रणियो का कल्याण करना।

गुरू रविदासदास इतने महान संत थे कि गंगा माता ने पुत्र से भी बढकर सम्मान दिया और अपने हाथ से दुसरा कंगन देकर अपने बच्चे रविदास के मान को संपूर्ण दिशाओं में बढाया।

गुरु रविदास ने इस संसार के इस भ्रम को मिटा दिया कि  ब्रहम  रूपी ईश्वर सब मे एक समान है।  जिस प्रकार हनुमान जी ने अपने छाती को फाडकर सीताराम को दिखा दिया उसी प्रकार गुरु रविदास ने अपनी छाती को फाडकर यज्ञोपवीत निकाल कर  सभी के भ्रम को निर्मूल कर दिया।

इस पावन अवसर पर अटूट लंगर लगाया गया। 

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]