नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , हिमाचल प्रदेश के चंबा में नवजात शिशुओं की अदला-बदली के मामले ने तूल पकडा अगर असलियत सामने नहीं आई तो डीएनए करवाया जायेगा – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

हिमाचल प्रदेश के चंबा में नवजात शिशुओं की अदला-बदली के मामले ने तूल पकडा अगर असलियत सामने नहीं आई तो डीएनए करवाया जायेगा

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

हिमाचल प्रदेश के चंबा में नवजात शिशुओं की अदला-बदली के मामले ने तूल पकडा अगर असलियत सामने नहीं आई तो डीएनए करवाया जायेगा

चंबा, 2 अप्रैल (LAHN): हिमाचल प्रदेश के पंडित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज चंबा में पहली बार नवजात के अदला-बदली करने का मामला सामने आया है।मेडिकल काॅलेज में नवजात शिशुओं की अदला-बदली का मामला अपनी तरह का अदभुत मामला है। जिसमें ममता की जीत होती है या फिर फरेब जीत जाता है । लोभ लालच की लड़ाई में कौन जीतता है यह रहस्य खुल जायगा लेकिन चंबा में मेडिकल काॅलेज प्रबंधन को आरोपों से दोचार होना पड़ रहा है। यह मामला इतना तूल पकड गया कि परिजनों ने मंगलवार को जमकर हंगामा किया मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल चिकित्सा अधीक्षक ने जांच के मकसद से कमेटी का गठन भी कर दिया है। इसमें डिप्टी एमएस, शिशु रोग विशेषज्ञ, गायनी विशेषज्ञ, वार्ड सिस्टर और नर्स को शामिल किया गया है। तीन दिन के भीतर ये कमेटी अपनी रिपोर्ट देगी। मेडिकल कॉलेज के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विपन ठाकुर ने बताया कि नवजात के अदला-बदली करने संबंधी परिजनों की लिखित शिकायत उनके पास पहुंची है। शिकायत के आधार पर जांच कमेटी गठित की गई है। मामले की गंभीरता कौ समझते हुए अगर सत्य सामने नहीं आया तो डीएनए टैस्ट से सच्चाई सामने आयेगी।
दरसल हुआ क्या
चंबा के चुराह से एक व्यक्ति ने शिकायत में कहा कि चंद रोज पहले उसकी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया था। इसी दौरान भरमौर की एक महिला की भी डिलीवरी हुई थी। शिकायतकर्ता के मुताबिक जन्म के वक्त शिशु पूरी तरह से स्वस्थ था।आरोप हैं कि स्वस्थ बच्चे की अदला-बदली कर दी गई। बताया जा रहा है कि शिकायतकर्ता की स्टाफ से बहस भी हुई थी। अदला-बदली का संवेदनशील और गंभीर है,जिसके चलते मेडिकल प्रबंधन इसे हलके में नहीं ले रहा है। टीम में उप मेडिकल अधीक्षक, शिशु व महिला रोग विशेषज्ञों के अलावा वार्ड सिस्टर को भी शामिल किया गया है। इसी बीच मेडिकल अधीक्षक डाॅ. विपिन ठाकुर ने ये भी संकेत दिए हैं कि आवश्यकता की सूरत में नवजात शिशुओं का डीएनए करवाया जा सकता है।
आश्चर्यजनक और अदभुत यह रहस्य है कि दोनों महिलाओं की गोद में बेटों की सौगात है। इसके यह धारणा र्निमूल हो जाती है कि बेटी वेटा की अदला-बदली हुई है।   लेकिन असलीयत क्या है यह तहकीकात और तपशीश की मुद्दा है।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]