नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , किसी ने सच कहा है कि प्यार करने की कोई उम्र नहीं होती, यह बात सीतापुर जिले सकरन क्षेत्र के इस दंपति पर बिलकुल सटीक बैठती है। दरअसल उम्र के 70 वें साल में एक बुजुर्ग व्यक्ति ने एक 70 साल की महिला से शादी की है – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

किसी ने सच कहा है कि प्यार करने की कोई उम्र नहीं होती, यह बात सीतापुर जिले सकरन क्षेत्र के इस दंपति पर बिलकुल सटीक बैठती है। दरअसल उम्र के 70 वें साल में एक बुजुर्ग व्यक्ति ने एक 70 साल की महिला से शादी की है

हर आदमी के जीवन का यह पड़ाव उसे पत्नि के निस्वार्थी जीवन का एहसास करवाता है।

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

जीवन साथी की सबसे ज्यादा अवश्यकता वुढापे में होती है यह कडवी सच्चाई है। इस समय अधिकांश परिवार जन साथ छोड देते हैं। पत्नी का क्या महत्व है  इसका पता वुढापे में चलता है।

औरत पहले वेटी, फिर बहन फिर पत्नी फिर भरजाई अंत में फिर अपने पति के लिए माँ के रूप में आ जाती है  यह कटु सत्य है कि औरत का जीवन संघर्ष में रहता है। यश फिर भी नहीं मिलता है धन्य है इस आ औरत को जो मान अपमान को भूल कर सेवा को धर्म मानती है

सांडा सकरन ,सीतापुर रिपोर्टर लाइवआल हिमाचल न्यूज़

किसी ने सच कहा है कि प्यार करने की कोई उम्र नहीं होती, यह बात सीतापुर जिले सकरन क्षेत्र के इस दंपति पर बिलकुल सटीक बैठती है। दरअसल उम्र के 70 वें साल में एक बुजुर्ग व्यक्ति ने एक 70 साल की महिला से शादी की है। अब इस अनोखी शादी की चर्चा पूरे क्षेत्र में हो रही है। यह मामला सकरन क्षेत्र का है। शादी के पहले दूल्हा एक आश्रम में रहता था। जहां कहीं से करीब एक वर्ष पूर्व दुल्हन इनके आश्रम आ पहुंची जिसके बाद दोनों की जान पहचान हुई और फिर सोमवार को एक-दूसरे के साथ आगे का जीवन संग बिताने का फैसला किया। 70 साल की इस दुल्हन का नाम राम देवी है। जबकि बिसवां तहसील के रहने वाले 70 वर्षीय दूल्हे का नाम मनोहर लाल है। मनोहर लाल बाबा का कोई जीवन साथी नहीं था। और जानकारी के अनुसार राम देवी का भी कोई निश्चित ठिकाना नहीं था। बस किसी तरह जीवन काट रहीं थीं।इसी वजह से दोनों ही लोग बिसवां तहसील के गड़वाडीह स्थित आश्रम में रहते थे। जब उनकी शादी की इच्छा की जानकारी ग्रामीणों को हुई तो उन्होंने दोनों लोगों की शादी करवाई।इस जोड़े की इच्छा है तो सिर्फ इतनी की बची हुई जिंदगी एक दूसरे के साथ हंसी ख़ुशी से बीत जाये। शादी के बाद भी यह बुजुर्ग जोड़ा आश्रम पर ही रहेगा।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]