नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , जीवन के संकटकाल दौर में दुर्भाग्य से कैसे पार पाऐं माँ दुर्गा अष्टम भवानी का मंत्र जाप करे। – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

जीवन के संकटकाल दौर में दुर्भाग्य से कैसे पार पाऐं माँ दुर्गा अष्टम भवानी का मंत्र जाप करे।

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

जीवन के किसी पड़ाव में,जीवन में दुर्भाग्य किसी भी कारण से आ सकता है जव असफलताओं का दौर शुरू हो जाता है तो छाया भी साथ छोड देता है। अपने भी दुश्मनी निभाने में कोई कोर कसर नही छोड़ते। 

क्या करें-:

                       केवल कर्म ही उसे सफलता की ओर ले जाता है। माता दुर्गा का चित्र रखकर समान्य ढंग से पूजन करें साथ में 11 मिनट मंत्र जाप करे पानी का लोटा व ज्योति किसी भी तेल की जलाऐं ध्यान रखें माता दुर्गा अष्टमी भवानी से दुर्भाग्य नाश और भाग्य बृद्धि की कामना करें। श्रद्धा और विसवास अटूट रखे। यह मंत्र भोजपत्र पर अनार की कलम से लाल चंदन से लिखकर ताबीज में डाल लें। 

दुर्भाग्य नाशिनी दुं दुर्गाय नमः

सरसों के तेल में सिके गेहूं के आटे व पुराने गुड़ से तैयार सात पूए, सात मदार (आक) के पुष्प, सिंदूर, आटे से तैयार सरसों के तेल का रूई की बत्ती से जलता दीपक, पत्तल या अरंडी के पत्ते पर रखकर शनिवार की रात को किसी चौराहे पर रखें और कहें – ‘हे मेरे दुर्भाग्य तुझे यहीं छोड़े जा रहा हूं कृपा करके मेरा पीछा ना करना। मैंने तुझे छोड़ा है अब तू मुझे छोड़ दे। 

नोट:- सुनशान जगह पर स्वयं चौराहा बना लें

अधिक जानकारी के लिए

राम प्रकाश ज्योतिष केन्द्र

 मो. संर्पक-88941-93376

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]