नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , सुघाल में नलकों से पानी के साथ निकले कीड़े, लोगों में संक्रमण का डर।  – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

सुघाल में नलकों से पानी के साथ निकले कीड़े, लोगों में संक्रमण का डर। 

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

सुघाल में नलकों से पानी के साथ निकले कीड़े, लोगों में संक्रमण फैलने का डर, ना जाने जल विभाग किस इंतजार में है। 

इसे जल विभाग की लापरवाही समझे या फिर विभाग की कार्य कुशलता पर प्रश्न चिन्ह, गौरतलब है कि जलजनित रोग जल्दी ही महामारी का रुप ले लेते है और इसका संक्रमण अति घातक होता है। लोग सामूहिक तौर पर वीमार होते हैं। लेकिन तीन दिन से ज्यादा दिन गुजर जाने पर भी जल विभाग सर्तक नहीं हुआ। ना जाने जल विभाग किस तरह की घटना का इंतजार कर रहा है सनद रहे कि भगवान् ना करे  अगर सामूहिक तौर पर कोई जानलेवा घटना घटित हो गई तो उतरवई कौन होगा?

जलजनित रोग, दूषित जल कौन से  रोग होतें है…? 

उल्लेखनीय है कि हैजा है। जलजनित रोग दूषित जल से फैलने वाले रोगजनक रोगाणुओं के कारण होते हैं। इन रोगजनकों का संचरण दूसरों के बीच पीने, भोजन तैयार करने और कपड़े धोने के लिए संक्रमित जल का उपयोग करने से होता है।यह रोग स्नान, धोने या जल पीने या संक्रमित जल के संपर्क में आने वाले भोजन खाने से फैल सकता है और गंभीर, जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकता है। उदाहरण टाइफाइड बुखार, हैजा और हेपेटाइटिस ए या ई हैं। अन्य सूक्ष्मजीव डायरिया जैसी खतरनाक बीमारियों को कम करते हैं।

 कंहा  हुई यह घटना

जवाली, विधानसभा क्षेत्र जवाली के अधीन पंचायत भरमाड़ के वार्ड नं-4 सुघाल में नलकों से पानी के साथ-साथ कीड़े भी सप्लाई हो रहे हैं। नलकों से पानी के साथ कीड़े निकलने से लोग काफी हताश हैं तथा इस पानी को पीने से लोगों को कोई भी बीमारी हो सकती है। सुघालवासियों ने बताया कि जब रविवार को पानी की सप्लाई हुई तो नलकों के नीचे रखे बर्तनों में पानी के साथ-साथ कीड़े भी निकले जिनको देखकर सुघालवासियों को संक्रमण होने का डर लग रहा है। लोगों ने कहा कि यह पानी पीने के लायक नहीं है। प्रतीत होता है कि जिस टैंक से हमें पानी आ रहा है उसकी साफ-सफाई न हुई हो तथा वहां से ही पेयजल के साथ कीड़े आ रहे हैं। इससे पहले इसी गांव में मिट्टीयुक्त मटमैला पानी आता रहा जिसको विभाग ने ठीक किया था। उन्होंने कहा कि जल शक्ति विभाग लोगों को साफ पेयजल मुहैया करवाने का दावा करता है लेकिन पानी मे कीड़े आने से इन दावों की पोल खुल गई। लोगों ने कहा कि हम यह पानी बोतलों में भरकर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू व जल शक्ति मंत्री मुकेश अग्निहोत्री को भेजेंगे।

सहायक अभियंता पवन कौंडल का पक्ष

इस बारे में जल शक्ति विभाग जवाली के सहायक अभियंता पवन कौंडल ने कहा कि मुझे इसकी जानकारी मिली है। अभी जेई को भेजकर इसको चैक किया जाएगा।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]