नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , नियागल गांव के लोग त्रासदी के वजह से रिलीफ कैंप में रहने को मजबूर  नियागल 12 घर जमींदोज 25 घर खतरे के निशान पर  प्रशासन के साथ साथ कई समाजसेवी संस्थाएं कर रही प्रभावित परिवारों का सहयोग  समाजसेवी संस्थाओं का पंचायत और लोगों ने सहयोग के लिए किया धन्यवाद   – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

नियागल गांव के लोग त्रासदी के वजह से रिलीफ कैंप में रहने को मजबूर  नियागल 12 घर जमींदोज 25 घर खतरे के निशान पर  प्रशासन के साथ साथ कई समाजसेवी संस्थाएं कर रही प्रभावित परिवारों का सहयोग  समाजसेवी संस्थाओं का पंचायत और लोगों ने सहयोग के लिए किया धन्यवाद  

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

हाईलाइट

नियागल गांव के लोग त्रासदी के वजह से रिलीफ कैंप में रहने को मजबूर 

नियागल 12 घर जमींदोज 25 घर खतरे के निशान पर 

प्रशासन के साथ साथ कई समाजसेवी संस्थाएं कर रही प्रभावित परिवारों का सहयोग 

समाजसेवी संस्थाओं का पंचायत और लोगों ने सहयोग के लिए किया धन्यवाद

जिला संवाददाता-विजय समयाल

जिला कांगडा की ज्वाली विधानसभा के नियागल में 20 जुलाई को भारी बारिश के कारण भयंकर नुक्सान हुआ था जिसमें 12 घर जमींदोज 25 घर खतरे के निशान पर है

त्रासदी की वजह आज प्रभावित परिवारों को रिलीफ कैंप में रहने को मजबूर होना पडा ।इस त्रासदी के समय गांव युवा मंडल , पंचायत प्रतिनिधियों तथा गांव के लोगों ने प्रभावित परिवारों का बहुत सहयोग किया ।

इस मद्देनजर की समाजसेवी संस्थाओं ने भी प्रभावित परिवारों की मदद का बीड़ा उठाने के लिए कदम बढ़ाया हुआ है हालांकि सरकार प्रशासन की ओर से फौरी राहत,

व जिनके घर जमींदोज हो गए हैं उनको मदद राशि भी दी है तथा इसके साथ ही आज सेवा भारती हिमाचल की सेवा भारती नूरपुर इकाई ने नियागल के प्रभावित परिवारों को घरेलू सामान तथा दवाई बांटी ।

पंचायत उप प्रधान संदीप ठाकुर ने कहा कि आज से कम से कम सात आठ दिन पहले एक दम पहाड़ी दरकनी शुरू हो गई जिसके कारण हमारे यहां 12 घर एक दम जमींदोज हो गए

और कम से कम 25 मकानों को खतरा हो गया पूरे गांव खतरें जोन में आ गया है उसमे जो 25 घर है वो शिफ्टिंग कर दिए हैं और 12 घरों के जो मेम्बर हैवो इस रिलीफ कैंप में रह रहे हैं उन्होंने कहा कि हमें सांसद ना आने मलाल था वो बात हमने पूछा था प्रशासन की तरफ से जिन परिवारों के घर जमींदोज हो गए हो गए हैं उनको एक एक लाख रुपए की राशि दी गई है

साथ में 11 परिवारों को फौरी राहत दी गई है इससे राशि से ना तो घर बनेगा ना ज़मीन मिलेगी सरकार से मेरा यही निवेदन है कि जितने भी घर प्रभावित हुए हैं उनको जमीन और साथ में घर बना कर दे ताकि वो अपना जीवन बेहतर व्यतीत कर सके । मैं समाजसेवी संस्थाओं का बहुत धन्यवाद करता हूं

उन्होंने यहां पर खान-पान रहने की व्यवस्था करी हुई है आज यहां सेवा भारती संस्था आई है और भी कई संस्थाएं आ रही वह सहयोग कर रही हम सरकार से यही कहना चाहते कि आप जल्द जल्द इन लोगों की रहने की व्यवस्था करवा दे यहा पर क्रान्ति युवा मंडल ने दिन रात काम किया इसके ही गाड़ियों वालों ने निशुल्क काम किया है

जय बाबा अमरनाथ सेवा दल रजि. मुक्तसर मोनू अरोड़ा ने कहा कि बीस तारीख को यह हादसा हुआ तब हम मनीमहेश जगह का देख रहे थे लंगर के लिए हमारा वहां बीस साल से भंडारा लग रहा है

हमारे साथ नियागल से ही हमारे साथी है घर जैसे फोन पहुंचा आया तो हम तुरंत वापिस पहुंचे जब हमने यह मंजर देखा तो यह सब बहुत भयानक था जिन लोगों के घर जमींदोज हो गए थे वह वहां बैठे थे तब हम लोगों ने यह विचार किया कि हम इस बार हम लंगर यही लगा देंगे हमने 21 जुलाई से लंगर की यहां व्यवस्था कर रखी है

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]