नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , अयोध्या में हुआ ज्ञानज्योति विद्वत् प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ*  – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

अयोध्या में हुआ ज्ञानज्योति विद्वत् प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ* 

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

*अयोध्या में हुआ ज्ञानज्योति विद्वत् प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ*

महमूदाबाद(अवध)अनुज कुमार जैन

अवध प्रान्त केअयोध्या जैनधर्म के अनुसार शाश्वत तीर्थंकर जन्मभूमि अयोध्या में भगवान ऋषभदेव दिगम्बर जैन मंदिर, बड़ी मूर्ति में आज 5 दिवसीय ‘‘ज्ञानज्योति विद्वत् प्रशिक्षण शिविर’’ का उद्घाटन भव्यता के साथ किया गया। दिनांक 4 सितम्बर से 8 सितम्बर 2023 तक चलने वाले इस शिविर में देश के विभिन्न स्थानों से लगभग 150 विद्वानों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया। यह शिविर राष्ट्रीय स्तर पर विद्वानों की एक संस्था ‘‘तीर्थंकर ऋषभदेव जैन विद्वत् महासंघ’’ के संयोजकत्त्व एवं ‘‘श्री दिगम्बर जैन अयोध्या तीर्थक्षेत्र कमेटी’’ द्वारा आयोजित किया गया है।

 

अयोध्या कमेटी के मंत्री डॉ. जीवन प्रकाश जैन ने बताया कि इस शिविर का मुख्य उद्देश्य जैनधर्म की प्राचीनता एवं 1000 वर्ष पूर्व के प्राचीन आचार्यों में आचार्य कुन्दकुन्द स्वामी, आचार्य श्री पूज्यपाद स्वामी, आचार्य यतिवृषभ आदि के द्वारा जैनधर्म के मूल आगम ग्रंथों में लिखे हुए ऐसे अनेक अनछुए पहलुओं को विद्वानों तक पहुँचाने का रखा गया है, जो आमतौर पर जानने और समझने को नहीं मिल पाते हैं। इसके साथ ही लगभग 2600 वर्ष पूर्व हुए जैनधर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के गणधर श्री गौतम स्वामी के संदर्भ में विशेष विषय वस्तु,

  1. जैनधर्म का प्राकृत और संस्कृत भाषा में प्राचीनकालीन सम्बद्ध आदि अनेक ऐसे महत्वपूर्ण विषय इस प्रशिक्षण शिविर में विद्वानों तक पहुँचाने का लक्ष्य रखा गया है। विद्वानों को उक्त प्रशिक्षण जैनधर्म की वर्तमान में सर्वप्राचीन दीक्षित, 89 वर्षीय, 71 वर्षीय साधना-­

तपस्या से तपोमयी, 500 जैन आगम ग्रंथों का लेखन करने वाली पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा किया जा रहा है। विशेषरूप से उनके साथ ही उनकी प्रमुख शिष्या प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी एवं पधारे वरिष्ठ विद्वत्जनों द्वारा भी अलग-अलग सत्रों में विभिन्न विषयों में प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।

 

 इस शिविर का उद्घाटन मध्यान्ह 2 बजे आयोजित शुभारंभ सत्र में किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में प्रो. अभय कुमार जैन, उत्तरप्रदेश जैन विद्या शोध संस्थान, संस्कृति विभाग-उत्तरप्रदेश सरकार-लखनऊ के चेयरमैन ने पधारकर कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलन किया।

उनके साथ ही अयोध्या तीर्थ के पीठाधीश एवं विद्वत् महासंघ के परामर्श प्रमुख पीठाधीश स्वस्तिश्री रवीन्द्रकीर्ति स्वामीजी, विद्वत् महासंघ के अध्यक्ष डॉ. अनुपम जैन-इंदौर, महामंत्री प्रतिष्ठाचार्य विजय कुमार जैन तथा अयोध्या कमेटी के सुभाषचंद जैन सर्राफ व डॉ. जीवन प्रकाश जैन उपस्थित रहे।

इस अवसर पर अतिथियों का समिति द्वारा सम्मान किया गया। पूज्य माताजी के द्वारा विद्वत् प्रशिक्षण में ‘‘तीर्थंकर समवसरण आदि रचना’’ नामक पुस्तक का संकलन व लेखन करके प्रकाशित कराया गया है, जिसका विमोचन पधारे अतिथियों ने किया और सभी विद्वानों को यह किताब वितरित की गई। पधारे विद्वानों को रजिस्ट्रेशन के समय ही विभिन्न साहित्य भी प्रदान किया गया।

उद्घाटन के उपरांत यह शिविर सायंकाल सत्र में भी आयोजित किया गया और इसी प्रकार प्रतिदिन प्रात:, मध्यान्ह एवं रात्रिकालीन सत्रों के द्वारा 8 सितम्बर 2023 को यह शिविर सानंद सम्पन्न होगा।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]