नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 8894723376 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , आखिर क्या कारण है? ग्राम पंचायत कौरासा ब्लाक बिसवां की गौशाला का आकस्मिक निरीक्षण हिन्दू वाहिनी गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर को करना पड़ा – लाइव ऑल हिमाचल न्यूज

आखिर क्या कारण है? ग्राम पंचायत कौरासा ब्लाक बिसवां की गौशाला का आकस्मिक निरीक्षण हिन्दू वाहिनी गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर को करना पड़ा

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

        उतर प्रदेश की डायरी

आखिर क्या कारण है? ग्राम पंचायत कौरासा ब्लाक बिसवां की गौशाला का आकस्मिक निरीक्षण हिन्दू वाहिनी गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर को करना पड़ा

रिपोर्ट-अनुज कुमार जैन /अंकिता चतुर्वेदी
यह एक ऐसा मुद्दा है जिसे नजर अंदाज नहीं किया जा सकता। पशुओं को भी देश के नागरिकों की तरह जीने का अधिकार है। उन्हें भी आधिकार मिले हैं जिनका प्रयोग पशु प्रेमी करते हैं क्योंकि बेजुबान जानवार खुद तो अपनी पैरवी नहीं कर सकता।आखिर क्या कारण है? ग्राम पंचायत कौरासा ब्लाक बिसवां की गौशाला का आकस्मिक निरीक्षण हिन्दू वाहिनी गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर को करना पड़ा मौका पर जो देखने को मिला वह दिल दहला देने वाला मंजर था। शायद जानवरों के प्रति इंसानियत तार -तार हो रही थी।
निरिक्षण मौका पर जितेन्द्र सिंह यादव जिला अध्यक्ष गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर आशीष कुमार जिला उपाध्यक्ष गौ रक्षा प्रकोष्ठ सीतापुर राहुल कुमार ब्लाक उपाध्यक्ष बिसवां अंकिता चतुर्वेदी मीडिया प्रभारी महिला प्रकोष्ठ आदि लोग मौजूद रहे।
मन को झंझोड कर रख देने वाला दृष्य गौशाला देखने को मिला, ताला लगा हुआ था। एक भी टे्कर गौशाला में नहीं मिला गौशाला के हालत असहनीय, दयानीय और रौंगटे खड़े कर देना वाला मंजर यह था कि गौशाला में गौ वंशों को उनकी जारूरत के मुताबिक चारा नहीं मिल रहा था वंही हृदय विदारक मंजर यह भी था कि गौशाला में एक गौवंश मरणासन्न अवस्था में पराली और पल्ली से ढका हुआ मिला.

प्रधान से कोई सम्पर्क न हो पाने पर जिला अध्यक्ष ने यह सूचना अपने प्रदेश अधिकारियों को दी। सूचना मिलने पर प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जितेन्द्र कुमार मिश्रा ने खण्ड विकास अधिकारी बिसवां को अवगत कराया तथा समस्त फोटो इत्यादि भी भेजे। खण्ड विकास अधिकारी ने प्रदेश उपाध्यक्ष से कहा किहम प्रधान के प्रति सख्त से सख्त कार्यवाही करेगें।
पशु क्रूरता के लिए सजा क्या है?
भारतीय दंड संहिता की धारा 428 और 429 के तहत अगर किसी ने जानवर को जहर दिया, जान से मारा, कष्ट दिया तो उसे दो साल तक की सजा हो सकती है। इसके साथ ही कुछ जुर्माने का भी प्रावधान है।
गौरतलब है कि भारत में पशुओं के खिलाफ क्रूरता को रोकने के लिए साल 1960 में पशु क्रूरता निवारण अधिनियम लाया गया था। साथ ही इस ऐक्ट की धारा-4 के तहत साल 1962 में भारतीय पशु कल्याण बोर्ड का गठन किया गया। इस अधिनियम का उद्देश्य पशुओं को अनावश्यक सजा या जानवरों के उत्पीड़न की प्रवृत्ति को रोकना है।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


[responsivevoice_button voice="Hindi Male"]